Admission ...

महाविद्यालय के स्नातक प्रथम वर्ष में योग्यत्ता क्रम के आधार पर ही प्रवेश दिया जायेगा। इसके साथ ही प्रवेश सम्बन्धी कुछ नियम निर्धारित किये गए है; जिनके आधार प्रवेश समिति अभ्यर्थियों के प्रवेश हेतु अपनी संस्तुति देगी। ये नियम निम्न्वत्त है :-

  • प्रवेश आवदेन पत्र का वितरण जून माह के प्रथम सप्ताह से होगा
  • आवदेन पत्र अभ्यर्थी द्वारा स्वयम स्पष्ट अक्षरों में भरकर निर्धारित तिथि तक वांछित प्रमाण पत्रों की प्रतियों सहित कार्यालय में जमा करना होगा।
  • पूर्ण रूप से भरे प्रवेश आवदेन पत्र जमा करने की अंतिम तिथि ३० जून है, अंतिम तिथि के पश्चात्त कोई भी प्रवेश आवदेन पत्र स्वीकार नहीं किये जायेगे।
  • इस महाविद्यालय अथवा किसी भी अन्य महाविद्यालय से अनुतीर्ण अभ्यर्थी को प्रवेश नहीं दिया जाएगा।
  • बी. ए. प्रथम वर्ष में न्यूनतम अहर्ता इंटरमीडियट परीक्षा में ४० प्रतिशत एवं बी. एस.सी. प्रथम वर्ष में न्यूनतम अहर्ता में ४५ प्रतिशत निर्धारित है, अनुसूचित जाती एवं जनजाति के प्रवेशार्थियों को न्यूनतम अहर्ता में ५ प्रतिशत की छूट दी जाएगी। निर्धारित न्यूनतम अंको से कम प्राप्त अंको वाले छात्रों को प्रवेश स्वीकृत नहीं किया जायेगा।
  • बी. ए. /बी. एस. सी./ एम.ए. प्रथम वर्ष में सीटे निर्धारित है इनके भर जाने के उपरांत कोई भी प्रवेश नहीं दिया जायेगा।
  • विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित तिथि के उपरांत महाविद्यालय में प्रवेश नहीं दिया जायेगा।
  • किसी परीक्षा में अनुचित साधन प्रयोग में पकडे गए छात्रायों को प्रवेश नहीं दिया जायेगा।
  • जनपद बांदा के अतिरिक्त एवं मा. शि. उ. प्र. इलाहाबाद के अतिरिक्त अन्य संस्थाओं से उत्तीर्ण अहर्कारी परीक्षा के प्रवेशार्थियों को सम्बंधित संस्था से निर्गत टी. सी. सक्षम अधिकारी द्वारा प्रति हस्ताक्षरित करनी होगी।
  • ऐसे प्रवेशार्थियों जिनके विरूद्ध पुलिस द्वारा आपराधिक मामले थाने में दर्ज है अथवा न्यायालय में विचाराधीन है, प्रवेश के पात्र नहीं होगे।
  • ऐसे अभ्यर्थी जिन्हें इससे पूर्व इस महाविद्यालय में प्रवेश अस्वीकृत किया गया हो को प्रवेश नहीं दिया जायेगा।
  • यदि कोई अभ्यर्थी बोर्ड अथवा विश्वविद्यालय की किसी अन्य परीक्षा में संस्थागत/ व्यक्तिगत परीक्षार्थी के रूप में प्रवेश प्राप्त करने के सत्र में, सम्मलित्त हो रहा हो तो उसे प्रवेश नहीं दिया जायेगा।
  • ऐसे प्रवेशार्थी को अगली कक्षा में प्रवेश नहीं दिया जायेगा, जिसकी गतिविधियाँ शास्ता मंडल की दृष्टि में अवांछनीय रही हो।
  • ऐसे प्रवेशार्थी जिन्होंने बी. ए./ बी.एस. सी. प्रथम वर्ष की परीक्षा बुंदेलखंड विश्वविद्यालय से सम्बद्ध किसी अन्य महाविद्यालय से उत्तीर्ण की हो, अथवा किसी अन्य महाविद्यालय से व्यक्तिगत परीक्षार्थी के रूप में अहर्कारी परीक्षा उत्तीर्ण की हो, उन्हें द्वितीय अथवा तृतीय वर्ष में प्रवेश नहीं दिया जायेगा ।
  • ऐसे प्रवेशार्थी जिनके विरूद्ध महाविद्यालय प्रशासन द्वारा अनुशासनात्मक कार्यवाही की गयी है, प्रवेश के पात्र नहीं है।
  • ऐसे संस्थागत छात्र जिन्होंने पूरे वर्ष अध्ययन किया हो एवं उन्हें परीक्षा प्रवेश पात्र जारी कर दिया हो और वे परीक्षा में किसी कारण से न बैठे हो, उनको संस्थागत छात्र के रूप में पुनः प्रवेश नहीं दिया जायेगा।
  • प्रवेश के सम्बन्ध में किसी भी प्रकार की सिफारिश प्रवेशार्थी की अयोगता मानी जाएगी।

    मुख्य बातें:

  • प्रवेश का आधार मेरिट सूचांक (योग्यता सूचांक) होगा। ५० प्रतिशत प्रवेश योग्यता क्रम से होगे, शेष ५० प्रतिशत प्रवेश शासन की नीति के अनुरूप २१ प्रतिशत अनु. जाति, ०२ प्रतिशत अनु. जनजाति एवं २७ प्रतिशत अन्य पिछड़े वर्ग के लिए सुरक्षित होगे।
  • विकलांग/ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के आश्रित/पुत्री/सशस्त्र सैनिकों के आश्रितों को नियमानुसार अपने वर्ग में क्षैतिज आरक्षण अनुमान्य होगा। (प्रमाण पत्र सलंघन करने पर)
  • मेरिट सूची महाविद्यालय के सूचना पट पर अवलोकित की जा सकती है साथ ही महाविद्यालय की वेबसाइट पर भी उपलब्ध होगी।
  • साक्षात्कार के समय सभी प्रमाण पत्रों की मूल प्रति लेकर प्रवेशार्थी का स्वयम उपस्थित होना अनिवार्य होगा।
  • निर्धारित तिथि एवं समय पर साक्षात्कार हेतु उपस्थित न होने वाले प्रवेशार्थी का कोई क्लेम नहीं होगा।
  • साक्षात्कार के पश्चात प्रवेशार्थी को निर्धारित तिथि तक कार्यालय/ बैंक में शुल्क जमा करना अनिवार्य होगा अन्यथा प्रवेश आदेश निरस्त समझा जायेगा।
  • किसी भी परिस्थिति में प्रवेश के समय जमा किया गया शुल्क वापस नहीं किया जायेगा
  • किसी भी छात्रा का प्रवेश तब तक पूर्ण नहीं मन जायेगा, जब तक वह पूर्व विद्यालय का स्थानान्तरण प्रमाण पत्र एवं चरित्र प्रमाण पत्र मूल रूप में प्रस्तुत न कर दे।
  • प्राचार्य को किसी भी प्रवेशार्थी को बिना कारण बताएं प्रवेश न देने का अधिकार सुरक्षित है।